HindiQuotesShayari

Gulzar Sahab Shayari that will stay with you forever

गुलज़ार साहब की लिखावटों का मूल ज़िंदगी हैं और ज़िंदगी क्या जो इनसे रूबरू न हो। सुबह की चाय हो या शाम का पैग़ाम गुलज़ार साहब की रचनाओं को पढ़ के बुत हो जाना खुद को मयस्सर करने जैसा हैं।

किसी वक्त मन की मन से हो बहस या राह चलते दिल कहे बहुत हुआ अब ज़िंदगी से यूँ मिला जाए रास्ते हो नज़रबंद और मुक़ाम की ओर चला जाए तब इनको पढ़ लेने भर से उम्मीदों के पुल तथा नया विश्वास उत्पन्न होने लगता हैं।
टूटते तारों के दर्द को उनकी आपबीती को पन्नों में क़ैद कर पाने की क़ाबिलियत रखने वालों में से एक गुलज़ार साहब जब लिखते हैं तो सब अर्थपूर्ण बन जाता हैं।

इस विश्वास की लौ यूँ ही जलती रहे इसलिए पेश है गुलज़ार साहब की 2५ अग्रिम रचनायें जो आपको विवश कर देगी इक नयी दिशा के ओर, अपने लक्ष की ओर, ज़िंदगी की ओर।

-मोहित येनुगवार

Top 23 Gulzar Sahab two lines Shayari in Hindi & Hinglish

Bahut mushkil se karta hoon teri yaadon ka kaarobaar,
munaafa kam hai lekin guzaara ho hi jaata hai!

बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है लेकिन गुज़ारा हो ही जाता है!

Bahut mushkil se karta hoon teri yaadon ka kaarobaar,
munaafa kam hai lekin guzaara ho hi jaata hai!


Wo cheej jise dil kehate hain,
hum bhool gaye hain rakh kar kahin!!

वो चीज जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख कर कहीं!!

Wo cheej jise dil kehate hain,
hum bhool gaye hain rakh kar kahin!!


Mohabbat zindagi badal deti hai,
Mil jaaye tab bhi aur naa mile tab bhi…!!!

मोहब्बत ज़िन्दगी बदल देती है,
मिल जाए तब भी और ना मिले तब भी…!!!

Mohabbat zindagi badal deti hai,
Mil jaaye tab bhi aur naa mile tab bhi…!!!


Ishq mein jalte hue saans tejabi lage
Raaz khulta hi nahin koi to chabi lage

इश्क़ में जलते हुए साँस तेजबी लगे
राज़ खुलता ही नहीं कोई तो चाबी लगे

Ishq mein jalte hue saans tejabi lage
Raaz khulta hi nahin koi to chabi lage


Humne aksar tumhaari raahon mein ruk kar,
apna hi intezaar kiya!!

हमने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर,
अपना ही इंतज़ार किया!!

Humne aksar tumhaari raahon mein ruk kar,
apna hi intezaar kiya!!


kabhi to chaunk ke dekhe koi hamaari taraf,
kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe!!

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतज़ार दिखे!!

kabhi to chaunk ke dekhe koi hamaari taraf,
kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe!!


Jaagna bhi kabul hai teri yaadon mein raatbhar,
Tere ehsaason mein jo sukoon hai wo neend mein kahaan!

जागना भी कबुल है तेरी यादों में रातभर,
तेरे अहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ!

Jaagna bhi kabul hai teri yaadon mein raatbhar,
Tere ehsaason mein jo sukoon hai wo neend mein kahaan!


Safal rishton ke bas yahi usool hai,
Baatein bhooliye jo fizool hai!!

सफल रिश्तों के बस यही उसूल है,
बातें भूलिए जो फिजूल है!!

Safal rishton ke bas yahi usool hai,
Baatein bhooliye jo fizool hai!!


Kuch rishton mein munaafa nahin hota,
Lekin zindagi ko ameer bana dete hain!

कुछ रिश्तों में मुनाफा नहीं होता,
लेकिन ज़िन्दगी को अमीर बना देते हैं!

Kuch rishton mein munaafa nahin hota,
Lekin zindagi ko ameer bana dete hain!

Haath chhute to bhi rishte nahin chhoda karte,
Waqt ki shaakh se rishte nahin toda karte!

हाथ छुटे तो भी रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख से रिश्ते नहीं तोड़ा करते!

Haath chhute to bhi rishte nahin chhoda karte,
Waqt ki shaakh se rishte nahin toda karte!

Rishton ki ahmiyat samjha karo janab...
Inhe jataya nahin nibhaya jaata hai...

रिश्तों की अहमियत समझा करो जनाब
इन्हे जताया नहीं निभाया जाता है

Rishton ki ahmiyat samjha karo janab…
Inhe jataya nahin nibhaya jaata hai…

Dhaage bade kamzor chun lete hain hum,
Aur phir poori umar gaanth bandhane mein hi nikal jaati hai !!

धागे बड़े कमजोर चुन लेते हैं हम,
और फिर पूरी उम्र गांठ बांधने में ही निकल जाती है !!

Dhaage bade kamzor chun lete hain hum,
Aur phir poori umar gaanth bandhane mein hi nikal jaati hai !!

Kuch rishte bahut roohani hote hain…
Apnepan ka shor nahin machaya karte…

कुछ रिश्ते बहुत रूहानी होते हैं…
अपनेपन का शोर नहीं मचाया करते…

Kuch rishte bahut roohani hote hain…
Apnepan ka shor nahin machaya karte…

Aap Ke Baad Har Ghadi Hum Ne
Aap Ke Saath Hi Guzaari Hai

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadi Hum Ne
Aap Ke Saath Hi Guzaari Hai

Tere jaane se kuchh badala to nahin,
Raat bhi aayi thi aur chaand bhi , magar neend nahin…

तेरे जाने से कुछ बदला तो नहीं,
रात भी आई थी और चाँद भी, मगर नींद नहीं…

Tere jaane se kuchh badala to nahin,
Raat bhi aayi thi aur chaand bhi , magar neend nahin…

Ek khoobsurat sa rishta khatam ho gaya
Hum dosti nibhate rahe aur use ishq ho gaya

एक खूबसूरत सा रिश्ता खत्म हो गया
हम दोस्ती निभाते रहे और उसे इश्क़ हो गया

Ek khoobsurat sa rishta khatam ho gaya
Hum dosti nibhate rahe aur use ishq ho gaya

Mil gaya hoga koi gajab ka hamasafar,
Warna mera yaar yun badalne waala nahin tha!

मिल गया होगा कोई गजब का हमसफ़र,
वरना मेरा यार यूँ बदलने वाला नहीं था!

Mil gaya hoga koi gajab ka hamasafar,
Warna mera yaar yun badalne waala nahin tha!

Meri khamoshi me sannata bhi hai, shor bhi hai…
Tune dekha hi nahin aankhon mein kuch aur bhi hai…!

मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी है, शौर भी है…
तूने देखा ही नहीं आँखों में कुछ और भी है!

Meri khamoshi me sannata bhi hai, shor bhi hai…
Tune dekha hi nahin aankhon mein kuch aur bhi hai…!

Aaina Dekh Kar Tasalli Hui
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanta Hai Koi

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasalli Hui
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanta Hai Koi

Kaun kahata hai hum jhoonth nahin bolte,
Ek baar khairiyat poochh kar to dekhiye!

कौन कहता है हम झूंठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत पुछ कर तो देखिये!

Kaun kahata hai hum jhoonth nahin bolte,
Ek baar khairiyat poochh kar to dekhiye!


Gulzar Sahab four line poetries in Hindi & Hinglish

Jab bhi dil yeh udas hota hai
jaane kaun aas-paas hota hai,
Koi wada nahi kiya lekin
kyun tera intezaar rehta hai…

Jab bhi dil yeh udas hota hai
jaane kaun aas-paas hota hai,
Koi wada nahi kiya lekin
kyun tera intezaar rehta hai…

जब भी दिल यह उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है,
कोई वादा नहीं किया लेकिन
क्यों तेरा इंतज़ार रहता है…

Meri koi khata to saabit kar,
Jo bura hoon to bura to saabit kar,
Tumhe chaha hai kitna tu kya jaane,
Chal main bewafa hi sahi…
Tu apni wafa to saabit kar!!!

Meri koi khata to saabit kar,
Jo bura hoon to bura to saabit kar,
Tumhe chaha hai kitna tu kya jaane,
Chal main bewafa hi sahi…
Tu apni wafa to saabit kar!!!

मेरी कोई खता तो साबित कर,
जो बुरा हूँ तो बुरा तो साबित कर!
तुम्हें चाहा है कितना तू क्या जाने,
चल मैं बेवफा ही सही…
तू अपनी वफ़ा तो साबित कर!!


Agar koi zor dekar poochega
humari mohabbat ki kahani,
To hum bhi dheere se kahenge
mulaakat ko taras gaye…!!!

Agar koi zor dekar poochega
humari mohabbat ki kahani,
To hum bhi dheere se kahenge
mulaakat ko taras gaye…!!!

अगर कोई ज़ोर देकर पूछेगा
हमारी मोहब्बत की कहानी,
तो हम भी धीरे से कहेंगे
मुलाक़ात को तरस गए…

Itne bure nahin the hum
jitne ilzaam lagaye logo ne,
Kuch kismat kharab thi
kuch aag lagai logo ne…

Itne bure nahin the hum
jitne ilzaam lagaye logo ne,
Kuch kismat kharab thi
kuch aag lagai logo ne…

इतने बुरे नहीं थे हम
जितने इलज़ाम लगाये लोगो ने,
कुछ किस्मत ख़राब थी
कुछ आग लगाई लोगो ने…

Wo mohabbat bhi tumhari thi
Wo nafrat bhi tumhari thi
Hum apni wafa ka insaaf kis se mangte
Wo shehar bhi tumhara tha wo adalat bhi tumhari thi…

Wo mohabbat bhi tumhari thi
Wo nafrat bhi tumhari thi
Hum apni wafa ka insaaf kis se mangte
Wo shehar bhi tumhara tha wo adalat bhi tumhari thi…

वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी
वो नफ़रत भी तुम्हारी थी
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे मांगते
वो शहर भी तुम्हारा था वो अदालत भी तुम्हारी थी…

Aadatan tumne kar diye vaade,
Aadatan humne aitbar kiya…
Teri raahon mein baarhan ruk kar,
Humne apna hi intezaar kiya…
Ab naa mangenge zindagi yaa rab,
Yeh gunaah humne jo ek baar kiya…

Aadatan tumne kar diye vaade,
Aadatan humne aitbar kiya…
Teri raahon mein baarhan ruk kar,
Humne apna hi intezaar kiya…
Ab naa mangenge zindagi yaa rab,
Yeh gunaah humne jo ek baar kiya…

आदतन तुमने कर दीए वादे,
आदतन हमने एतबार किया…
तेरी राहों में बारहाँ रुक कर,
हमने अपना ही इंतज़ार किया…
अब ना मांगेंगे ज़िन्दगी या रब,
यह गुनाह हमने जो एक बार किया…

Mere dil mein ek dhadkan teri hai
Us dhadkan ki kasam tu zindagi meri hai
Meri to har saans mein ek saans teri hai
Jo kabhi saans ruk jaye to maut meri hai

Mere dil mein ek dhadkan teri hai
Us dhadkan ki kasam tu zindagi meri hai
Meri to har saans mein ek saans teri hai
Jo kabhi saans ruk jaye to maut meri hai

मेरे दिल में एक धड़कन तेरी है
उस धड़कन की कसम तू ज़िन्दगी मेरी है
मेरी तो हर सांस में एक सांस तेरी है
जो कभी सांस रुक जाये तो मौत मेरी है

Mere dard to bhi aah ka haq hai
Jaise tere husn to nigaah ka haq hai...
Mujhe bhi ek dil diya hai bhagwan ne
Mujh naadan ko bhi ek gunaah ka haq hai...

Mere dard to bhi aah ka haq hai
Jaise tere husn to nigaah ka haq hai…
Mujhe bhi ek dil diya hai bhagwan ne
Mujh naadan ko bhi ek gunaah ka haq hai…

मेरे दर्द तो भी आह का हक़ है
जैसे तेरे हुस्न तो निगाह का हक़ है…
मुझे भी एक दिल दिया है भगवन ने
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ है…


Top 25 Poetries by Gulzar Sahab on Zindagi (Life) in Hindi & Hinglish

अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं
इतना क्यों सिखाई जा रही हो जिंदगी.
हमें कौन से सदिया गुजारनी है यहां.
Itna kyon sikhaye jaa rahi ho zindagi,
Humein konsi yahan zindagi gujarni hai!
थोड़ा सा रफू करके देखिए ना
फिर से नई सी लगेगी
जिंदगी ही तो है
Thoda sa rafu karke dekhiye naa…
Fir se nayi si lagegi,
Zindagi hi to hai…
मैं वो क्यों बनु जो तुम्हें चाहिए
तुम्हें वो कबूल क्यों नहीं
जो मैं हूं
बहुत छाले हैं उसके पैरों में
कमबख्त उसूलो पर चल होगा

Estimated reading time: 18 minutes

थोडा है थोड़े की ज़रूरत है,
ज़िन्दगी फिर भी यहाँ की खुबसूरत है!!
Thoda hai thode ki zaroorat hai,
Zindagi phir bhi yahaan ki khubsoorat hai!!
ना राज़ है “ज़िन्दगी”
ना नाराज़ है “ज़िन्दगी”
बस जो है, वो आज है ज़िन्दगी!!!
Naa raaz hai “Zindagi”
Naa naaraaz hai “Zindagi”
Bas jo hai, wo aaj hai Zindagi!!!

लगता है ज़िन्दगी आज कुछ खफा है,
खैर छोडिये कौन सी पहली दफा है!
Lagta hai zindagi aaj kuch khafa hai,
Khair chhodiye kon si pehli dafa hai…!!
ज़िन्दगी ये तेरी खरोंचे है मुझ पर,
या तू मुझे तराशने की कोशिश कर रही है!
Zindagi ye teri kharonchein hai mujh par,
Ya tu mujhe tarashne ki koshish kar rahi hai!
एक सपने के टूट कर चकनाचूर हो जाने के बाद,
दुसरे सपने देखने के हौंसले को ज़िन्दगी कहते हैं!
Ek sapne ke tooth kar chaknachoor ho jane ke baad,
Dusre sapne dekhne ke hausle ko zindagi kehte hain!
यूँ तो ऐ ज़िन्दगी तेरे सफ़र से शिकायतें बहुत थी,
मगर दर्द जब दर्ज करने पहुंचे तो कतारें बहुत थी!
Yun to ae zindagi tere safar se shikayatein bahut thi,
Magar dard jab darj karane pahunche to katarein bahut thi!
थम के रह जाती है ज़िन्दगी,
जब जम के बरसती है पुरानी यादें!
Tham ke reh jaati hai zindagi,
Jab jam ke barasati hai puraani yaadein!
कभी ज़िन्दगी एक पल में गुज़र जाती है,
कभी ज़िन्दगी का एक पल नहीं गुज़रता!
kabhi zindagi ek pal mein guzar jaati hai,
kabhi zindagi ka ek pal nahin guzarata!
मैं तो चाहता हूँ हमेशा मासूम बने रहना,
ये जो ज़िन्दगी है समझदार किए जाती है!
Main to chaahta hoon hamesha maasoom bane rehana,
Ye jo zindagi hai samajhdaar kiye jaati hai!
जख्म कहाँ-कहाँ से मिले हैं छोडो इन बातों को,
ज़िन्दगी तू तो बता, सफ़र और कितना बाकी है!
Jakhm kahaan-kahaan se mile hain chhodo in baaton ko,
Zindagi tu to bata, safar aur kitna baaki hai!
तुझे बेहतर बनाने की कोशिश में
तुझे ही वक़्त नहीं दे पा रहे हम,
माफ़ करना ऐ ज़िन्दगी…
तुझे ही जी नहीं पा रहे हम..!!
Tujhe behtar banane ki koshish mein
tujhe hi waqt nahin de pa rahe hum,
Maaf karna ae zindagi…
tujhe hi jee nahin pa rahe hum..!!
मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में
बस हम गिनती उसी की करते हैं जो हासिल न हो सका...
Milta to bahut kuch hai is zindagi mein
Bas hum ginti usi ki karte hain jo haasil na ho saka
ज़िन्दगी छोटी नहीं होती है
लोग जीना ही देर से शुरू करते हैं
Zindagi choti nahin hoti hai
log jeena hi der se shuru karte hain
मोमबत्ती सी जल रही है ज़िन्दगी…
रोशन है मगर पिघल रही है ज़िन्दगी…
Mombatti si jal rahi hai zindagi…
Roshan hai magar pighal rahi hai zindagi…
खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है
खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है
वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था
Wo Umra Kam Kar Raha Tha Meri
Main Saal Apne Badha Raha Tha
ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा …
क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा ..!
Zindagi yoon hi basar tanhaa
Kaafila saath aur safar tanha…
[section label=”Testimonials” bg_color=”rgb(246, 246, 246)” padding=”80px”] [row label=”Testimonials” padding=”50px 50px 30px 50px” padding__sm=”30px 30px 30px 30px”] [col span__sm=”12″] [ux_slider hide_nav=”true” nav_pos=”outside” arrows=”false” nav_color=”dark” bullet_style=”square” timer=”3000″] [row_inner label=”Testimonial 1″ style=”large”] [col_inner span=”4″ span__sm=”12″ padding=”15px 0px 0px 0px”] [ux_image id=”5685″ class=”circle”] [/col_inner] [col_inner span=”8″ span__sm=”12″] [row_inner_1 style=”collapse”] [col_inner_1 span__sm=”12″ margin=”0px 0px -50px 0px” animate=”bounceInUp”]

[/col_inner_1] [/row_inner_1]

Pen Name : Gulzar

Gulzar Sahab has worn several hats, including poet, novelist, composer, film scriptwriter, dramatist, producer, dialogue writer, director, intellectual, and being known for his individuality and innovation in every profession. His inimitable articulation, whether in poetry or prose, has helped bring about ever new features and feelings in the path of life.

[gap height=”10px”]

Sampooran Singh Kalra

Indian lyricist, poet, author, screenwriter, and film director.

[/col_inner] [/row_inner] [/ux_slider] [/col] [/row] [/section]

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button